Skip to main content

भगवन को अवतार लेना है ..हेल्प प्लीज़

भगवान् के अवतरण का समय आ गया है । भगवान् अब अवतार लेने की तयारी में है ....उन्होंने नारद को बुलावा भेजा है। नारद , भगवान् के सम्मुख बैठ कर ....

"हे प्रभो " आपका विधान कलयुग में प्रभावी नही रहा , कल्कि अवतार की योजना पर अमल सम्भव नही ..क्यों की अपने जिस स्वरुप की चर्चा की है ...घोडे पे आसीनहोकर आप विचरण नही कर सकते , टोल टैक्सका जमाना आ गया है ..घोडे की पुँछ उठाकर कोई नंबर कैसे देख पाएगा

परन्तु नारद ! ब्रह्मण कुल में जन्म लेने पर क्या , कहना है तुम्हारा .....

"एक ब्रह्मान के घर , उत्तर प्रदेश में पैदा होना ...धिक्कार है प्रभु .... वहां तो ब्राह्मणों को इज्ज़त खरीदिनी पड़ रही है ॥ और आप अच्छे युगनिर्माता हो सकते हैं , पर अच्छे मार्केट एजेंट , कदापि नही.....

"तो तुम्ही बताओ नारद ! इस विषम परिस्थिति का सामना कैसे किया जाए ॥?" कहो तो किसी अन्य भू - भाग पर अवतार लेता हूँ ..परन्तु अन्य जगह की यथास्थिति का पता लगाओ ......."

कई दिनों के धरती भ्रमण के बाद वापस विष्णुलोक पहुँचते हैं...

(यह संवाद जारी रहेगा ..अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें )

Comments

  1. बहुत अच्छे जा रहे हो ,लिख्ते रहो . आगे धरती से क्या समाचार आता है .प्रतिक्शा है।अन्य भूमि पर अवतार लेकर क्या भारत भूमि की बेइज़्ज़ती करायेन्गे प्रभु ? प्लीज शूद्र कुल मैं जन्म लेकर भारत को ही क्रितार्थ करें.।

    ReplyDelete
  2. jiske paas jo hai vahi to chhinaa jaayega
    paisewale se paisa.
    izzat wale se izzat.
    magar izzat khareedane ki baat hui to ise bech kaun rahaa hai ?
    marketting for izzat.... how ....?

    ReplyDelete
  3. सुन्दर है लिखे आगे का,

    ReplyDelete

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।