Friday, April 24, 2009

हिंदुस्तान का दर्द

लोग कहते हैं क्यों युंही सिर खपाता हूं ।
गीत गाता व्यर्थ ही क्यों गुन गुनाता हूं ।
गीत ही है जिन्दगी मेरे लिये ए दोस्त,
ज़िन्दगी जीता हूं मैं तो गुन गुनाता हूं.
जाने कितने गम ज़माना लिये फ़िरता है,
गीत गाकर मैं वही तुमको सुनाता हूं ।
त्रस्त है जीवन यहां हर खासो-आम का ,
इसलिये जन-जन की बातें कहता जाता हूं।
हो रहीं क्यों जहां में ख्वारियां रुसवाइयां,
तुम हो डरते किन्तु मैंतो कह सुनाता हूं।
कौन धाये है कहर सब खासो-आम पर,
श्याम तुम कहते नहीं पर मैं तो गाता हूं।
--डा. श्याम गुप्त

2 comments:

  1. श्याम जी बहुत खूब लिखा आपने

    ReplyDelete
  2. श्याम जी बहुत खूब लिखा आपने

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...