Saturday, April 25, 2009

शूर्पनखा


सूर्पनखा भी एक पात्र है ,
जग्विजयी रावण की भगिनी।
बनी कुपात्र परिस्थितियों वश ,
विधवा किया स्वयं भ्राता ने ।
राज्य मोह पदलिप्सा कारण ,
पति रावण विरोध पथ पर था।
कैकसि और विश्रवा ऋषि की ,
थी सबसे कनिष्ठ संतान ।
अतिशय प्रिय परिवार दुलारी ,
सारी हठ पूरी होतीँ थीं।
मीनाकृति सुंदर आँखें थीं ,
जन्म नाम मीनाक्षी पाया।
लाड प्यार मैं पली बढ़ी वह ,
माँ कैकसि सम रूप गर्विता ।
शूर्प व लंबे नख रखती थी ,
शूर्पनखा इसलिए कहाई ।
शुकाकृति थी सुघड़ नासिका ,
शूर्प नका भी कहलाती थी ।
जन स्थान की स्वामिनी थी वह,
था अधिकार दिया रावण ने ।
पर पति की ह्त्या होने पर,
घृणा द्वेष का ज़हर पिए थी ।
पूर्ण राक्षसी भाव बनाकर ,
अत्याचार लिप्त रहती थी ।
अश्मक द्वीप ,अश्मपुर शासक ,
कालिकेय दानव विध्युत्ज़िहव;
प्रेमी था वह शूर्पनखा का ,
रावण को स्वीकार नहीं था।
सिरोच्छेद कर विध्युत्जिब का ,
नष्ट कर दिया अश्मकपुरको ।
पति ह्त्या से आग क्रोध की,
लगी धधकने शूर्पनखा में ।
पुरूष जाति प्रति घृणा भाव मैं ,
शीघ्र बदलकर तीव्र होगई ।
प्रेम पगी वह सुंदर रूपसि ,
एक कुटिल राक्षसी बन गयी।
यह दायित्व पुरूष का ही है,
सदा रखे सम्मान नारि का ।
अत्याचार न हो नारी पर ,
उचित धर्म व्रत अनुशीलन का ,
शास्त्र ज्ञान मिले उनको भी ;
हो समाज स्वस्थ दृढ सुंदर।
--शूर्पनखा काव्य-उपन्यास से (अगीत विधा काव्य --डा श्याम गुप्ता )

2 comments:

  1. ek satya ko is tarah ujagar karna..........wakai bahut badhiya.

    ReplyDelete
  2. यह काव्य उपन्यास अकविता, गद्य गीत, अगीत अथवा किसी अन्य विधा में है? इसके शिल्प और पिंगल को जानना चाहता हूँ.-आचार्य संजीव 'सलिल'

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...