Monday, March 30, 2009

पगलवा कई prem

ई मर्द के महत्वाकांक्षा तू
भाप न पौलू साए म
वादा के के चंपत भैलू
दाग लागौलू माथे माँ
तू दुसरे के बाह पाकर लहालू
हम रास्ता तोहरी ताकत बातें
ई कौन शास्त्र माँ लिखा बा प्रिये
वादा कई के छोर दिया
मन्दिर माँ इतनी कसम खेलु
धागा बंधिव हाथे माँ
माला तोहरे नाम के हम
जपत रहे दिन रात
या तो तू अब आय जेबू,,
या हम देबय आपण जान//

1 comment:

  1. अच्छा लिखा है बहुत बढ़िया !

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...