Tuesday, March 17, 2009

मुक्तक: तोड़ कितने दिल दिए - संजीव 'सलिल'

दिल लिया दिल बिन दिए ही, दिल दिया बिन दिल लिए।
देखकर यह खेल रोते दिल बिचारे लब सिए।
फिजा जहरीली कलंकित चाँद पर लानत 'सलिल'-
तुम्हें क्या मालूम तुमने तोड़ कितने दिल दिए।


कभी दिलवर -दिलरुबा थे, आज क्या हो क्या कहें?
यह बताओ तुम्हारी बेहूदगी हम क्यों सहें?
भाड़ में दे झोंक तुमको, तमाशा तुम ख़ुद बने।
तुम हवस के हो पुजारी, दूर तुम से हम रहें।

देह बनकर तुम मिले थे, देह तक सीमित रहे।
आज लगता भाव सारे, तुम्हारे बीमित रहे।
रोज चर्चाओं का बोनस, मिल रहा है मुफ्त में-
ठगे जन के मन गए हैं, दर्द असीमित रहे।

********************************

1 comment:

  1. संजीव वर्मा जी मजा आ गया

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...