Thursday, March 26, 2009

कृपया आप लोग भी अपने अनुभव लिखें- आपको कब महसूस हुआ था कि ईश्वर है


विनय बिहारी सिंह

कृपया आप लोग भी यह लिखने का कष्ट करें कि सबसे पहले आपको कब लगा था कि ईश्वर है। आपने कब किसी संकट के क्षण में उन्हें याद किया और आपको आशा की किरण दिखाई पड़ी। या कब आपने किसी फूल से बच्चे को हंसते हुए देखा और आपको ईश्वर की याद आई। कृपया इस चर्चा को आगे बढ़ाएं। अपने ईश्वरीय अनुभवों को बांटें और महसूस किए हुए ईश्वरीय प्रकाश को दूसरों तक पहुंचाएं। निश्चय ही आपके जीवन में ऐसे क्षण आए होंगे, जब आपको लगा होगा कि हां, ईश्वर जरूर है और वह हमारी मदद करता है। हो सकता है हर बार आपको ऐसा महसूस न हो। लेकिन कभी कभी तो महसूस होता ही होगा। एक बार फिर आग्रह है कि आप इस विषय पर लिखें।

4 comments:

  1. ishwar kahan nhi hai aap ye bataiye aur uska anubhav to har pal hota hai.hum hain.........yahi darshata hai ki ishwar hai varna hamara koi astitva hi nhi.vaise jahan tak anubhav ki baat hai to na jaane kitni baar anubhav hua ki ishwar to humse bhi 4 kadam aage chalkar hamari har vyavastha kar raha hai.
    har pal ishwar ka anubhav hota hai ki wo har pal mere sath hain.

    ReplyDelete
  2. वंदना जी, आप का बहुत बहुत शुक्रिया. आप भाग्यशाली हैं क्योंकि आप हर पल इश्वर का अनुभव करती हैं. आपका comment पढ़ कर मन तृप्त हो गया.
    विनय बिहारी singh

    ReplyDelete
  3. मुझे तो हर कदम पर यंकी होता है की खुदा है !

    ReplyDelete
  4. विनय जी अच्छा प्रश्न पुछा है आपने-
    ईश्वर तो है यह किसी विवाद का विषय नहीं है मेरे साथ भी कई बार ऐसे हालात बने थे जिनसे उबर पाना आसन नहीं था
    लेकिन प्रभु की कृपा से सब ठीक हुआ !

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...