Thursday, March 26, 2009

मुसलमान अज़ान में सम्राट अकबर का नाम क्यूँ लेते हैं?



गैर मुस्लिम यह समझते हैं कि मुसलमान नमाज़ के लिए बुलाने वास्ते दी जाने वाली पाँचों अज़ान में सम्राट अकबर का नाम लेते हैं!

"एक बार एक गैर मुस्लिम मंत्री भाषण दे रहे थे, वह भारत की उपलब्धियों और सफलताओं में भारतीय मुसलमानों के योगदान के बारे में रौशनी डाल रहे थे | वह बता रहे थे भारतीय सम्राटों में महान सम्राट अकबर का स्थान सबसे ऊँचा है | यही वजह है कि मुस्लिम अज़ान में सम्राट अकबर का नाम लेते हैं|"  

हलाँकि वह गैर मुस्लिम मंत्री जी बिलकुल भी सही नहीं कर रहे थे | मैं गैर मुस्लिम में फैली इस ग़लतफ़हमी को दूर कर देता हूँ कि मुसलमान नमाज़ के लिए बुलाने वास्ते दी जाने वाली पाँचों अज़ान में सम्राट अकबर का नाम नहीं लेते हैं|  

अज़ान में लिया जाने वाला शब्द 'अकबर' का भारत के सम्राट अकबर से कोई वास्ता नहीं रखता है|  

अज़ान में लिया जाने वाला शब्द 'अकबर' तो भारत के सम्राट अकबर के जन्म से शताब्दियों पहले से प्रयोग किया जा रहा है|

'अकबर' का अर्थ होता है 'महान'  

अरबी के शब्द 'अकबर' का मतलब होता है 'महान'| 

जब हम अज़ान में कहते है ‘अल्लाहु अकबर’ तब हम यह संबोधित करते है हैं कि 'अल्लाह महान है' यानि ‘Allah is Great’ or ‘Allah is the Greatest’ अर्थात 'ईश्वर महान है' |  

और हम मुस्लिम उस एक और केवल एक अल्लाह की पूजा करते हैं, इबादत करते है जो कि बहुत महान है |  


द्वारा- 
सलीम खान 
स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़ 
लखनऊ व पीलीभीत, उत्तर प्रदेश


4 comments:

  1. बन्दे में दम तो है
    पर सारा दम कचरे को बटोरने में लगा देता है
    लगा रह

    ReplyDelete
  2. नहीं अम्बरीश जी सलीम जी कचरे के डिब्बे में नहीं बल्कि अपनी उर्जा को कचरे से खाद बनाने में लगा रहे है,यही खाद एक दिन नए नए प्रकार की फसल को पैदा करेगा!
    बहुत खूब दोस्त !

    ReplyDelete
  3. आपको इस्लाम से इतनी घृणा क्यूँ है, जबकि यही सनातन सत्य धर्म है जिसकी भविष्यवाणी वेदों और भविष्यपुराण में दी गयी है|

    मैं तो सबको साथ में आने की बात करता हूँ, एक साथ ! मैं वेदों का भी हवाला देता हूँ, मैं कभी नहीं नकारता कि वेद सत्य नहीं है, बल्कि वेद ही से तो शुरुआत हुई है |

    आप स्वयं पढें और फिर निष्कर्ष निकालें, किसी से पूछ पाछ कर या यूँ ही विचारधारा के आवेश में आकर कुछ भी ना कहिये |

    What you are saying, must have base, it shouldn't be baseless.

    सलीम खान
    स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़
    लखनऊ व पीलीभीत, उत्तर प्रदेश

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...