Saturday, March 21, 2009

टेलिविज़न इतिहास में पहली बार ! देखना ना भूलें !!



टेलिविज़न इतिहास में पहली बार

रविवार, दिनांक 22/03/2009 को शाम 8:30 बजे से शुरू होगा 

महासंग्राम 
                
श्री  श्री रवि शंकर जी

और

डॉ. ज़ाकिर नायक

के बीच

पर
देखना ना भूलें !!!
रविवार, दिनांक 22/03/2009 को शाम 8:30 बजे से

गुजारिशकर्ता:
सलीम खान
स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़
लखनऊ व पीलीभीत, उत्तर प्रदेश

26 comments:

  1. रोज़ाना दस बजे सभी के देखने के लायक प्रोग्राम आता है ! ट्रूथ एक्स्पोस्ड !! ज़रूर देखा करें..........

    ReplyDelete
  2. achchha to ye baat hai peace tv ke dalal ho tum ...................... ........... sab bazar ka khel hai dharm ki aad me arab desho se chanda maang -maang kar apni tijori bharne walon ki dalali mat kar bhai ........... aur ye jakir naik ya ravishankar ne kya theka le rakha hai dono dharmo ka . ... jakir ne le v rakha ho par ravishankar ko to hamne nahi diya . kyunki hamare yahan kisi ek dharmgranth ya dharmadhish ko bhramlakir nahi mana gaya . yahan aaj niji swatantrta hai .kaun kya kare kise mane .........
    islamikaran ke is abhiyan se kuchh hasil nahi hoga are duniya jaise hai rahne do ... agar badalna hi hai dharm ko nahi wishwwyastha ko badalo .................... par ye sab to tumlogo ke aukat ke bahar hai .jitna dimag aur paisa aatanki paida karne main lagate ho utne mein to samuche muslim samaj ki garibi aur ashikasha door ho jayegi ...................... par tum to thehre lakir ke fakir ...................

    ReplyDelete
  3. actual men tum kuchh nahin jante ho tumharee prishth bhumi main batata hoon bharat ke kisis gaon se ya qasbe se sambandh hai tumhara aur jahan na tunme dhang ki padhaee ki naa hi insaniyat ke qareeb rahe ........rahe hote to is men tumhe koi buraee nahi lagti

    ReplyDelete
  4. भाई यह चैनल तो हमारे यहाँ नहीं आता
    अब इसके आगे तक की रिपोर्ट लाने की जिम्मेदारी भी सलीम जी आपकी है
    बहुत बढ़िया जानकारी........!

    ReplyDelete
  5. जी संजय जी, वैसे आप केबिल ओपरेटर से संपर्क करके इसके लिए रिक्वेस्ट कर सकते है, शयेद काम बन जाये!! वेल.मैं ज़रूर कोशिश करूंगा !!!

    आजकल अनाम लोगों की टिप्पणियां बहुत आ रहीं हैं मेरे पोस्ट पर, क्या उनको कोई डर लग रहा है मुझसे....डरने की बात नहीं है दोस्त...ज़रा सामने तो आ ओ छलिये छुप छुप छलने में क्या राज़ है..........

    और हाँ वैसे भी कुरान में लिखा है:

    "जिन लोगों ने इनकार (कुफ्र) किया उनके लिए बराबर है, चाहे तुमने उसे सचेत किया हो या सचेत ना किया हो, वे ईमान नहीं लायेंगे" अल-कुरान 2:6 (सुरह अल-बकरा)

    "वे बहरे हैं, गूंगे हैं, अंधे हैं, अब वे लौटने के नहीं" अल-कुरान 2:18 (सुरह अल-बकरा)

    और साथ में आगे अल्लाह कहता है-

    "तुम ईश्वर के साथ अविश्वास की निति कैसे अपना सकते हो, जबकि तुम निर्जीव थे तो उसने तुम्हे जीवित किया, फिर वही तुम्हे मौत देता है, फिर वही तुम्हे जीवित करेगा, फिर उसी की और तुम्हें लौटना है" अल-कुरान 2:28 (सुरह अल-बकरा)

    ईश्वर सबको सदबुद्धि दे !!!

    ReplyDelete
  6. कुछ नहीं होने वाला यहाँ
    सब नौटंकी है..मुस्लिमो की

    ReplyDelete
  7. अम्बरीश भाई आप में इतनी ... क्यूँ है आईये एक स्वस्थ विचार के साथ आगे बढे और दुनिया को दिखला दें कि हम सब हिन्दोस्तानी एक हैं, हमारा विचार एक है और हमारा दर्द भी एक ही है !!!

    ReplyDelete
  8. तो आईयेगा ना इस रविवार को शाम छह बजे अपने टेलिविज़न स्क्रीन के सामने...... मिल कर देखेंगे

    ReplyDelete
  9. क्या रविशंकरजी ने ठेका ले रखा है हिन्दुओं का, जो हिन्दुओं की तरफ से 'वार्ता' करेंगे? श्री श्री १००८ रविशंकरजी अपना सुदर्शन क्रिया इंस्टीट्यूट प्राइवेट लिमिटेड ही संभालें तो बेहतर होगा. हिन्दुओं का कोई धर्मगुरु, कोई एक ही धर्मग्रंथ नहीं है न ही कोई शरिया है.

    वैसे मुस्लिम 'शांति' के इतने ही इच्छुक हैं तो सारा मुस्लिम जगत यह क्यों नहीं मान लेता की 'हिन्दू काफिर नहीं हैं'. साउदी और देवबंद भी यह औपचरिक रूप से मान लें तो झगडा ही ख़त्म, वर्ना काफिर भी कहोगे और शांति की बात भी करोगे तो क्या होगा? बताओ क्या होगा?

    हो सकता है हिन्दुओं को काफिरों या दिम्मी की श्रेणी से हटा भी दिया गया हो, इसकी औपचरिक घोषणा की यूआरएल कृपया भेज दें.

    और क्या यह सच है की मक्का मदीना जिस देश में स्थित है (पूर्णतः इस्लामिक देश; शरिया ही संविधान), उसमे औरतों के कार चलने तक पर प्रतिबन्ध है! और इसलाम के आलावा कोई भी मज़हब मान्य नहीं किया जाता, न ही गैर इस्लामियों को सहन ही किया जाता है!

    ReplyDelete
  10. ज़रा सामने आइए आप लोग क्या बात है इस तरह से मज़ा नही आएगा
    खुलकर बोलो
    !!
    और संजय जी यह ब्लॉग की सेट्टिंग को क्या हुआ है !

    ReplyDelete
  11. आप लोगों को आख़िर हुआ क्या है
    ज़रा ज़रा सी बात पर लड़ रहे हैं ,कोई मुद्दे का विषय उठाइए तो मज़ा

    ReplyDelete
  12. प्लिज इस तरह कि बाते हमारे लिऐ ठिक नही है। देश के हम सभी जिम्मेदार नागरिक बने।

    सुधरे व्यक्ती समाज व्यक्ती से राष्ट्र स्वय सुधरेगा।

    हे प्रभु का यह सिहनाद सारे जग मे पसरेगा॥

    सन्जयजी कृपया इस तरह कि बातो को रोका जाना चाहिऐ। आप ध्यान दे।

    ReplyDelete
  13. sanjay is bar sahi bol rahe hainmudde ki bat honi chahiye par kya yahi mudda bacha hai ? yar loksabha chunaw nikat hai pure desh ke agle 5 saal ka bhawishya tay hone wala hai aur aap log yahan peace tv ke chakkar me hain . are shyad aap nahi jante hon doctor jakir naik ko main thoda bahut jarur janta hoon . unke kuchh anuyayi hamare jamia me padhai-likhai ke badle dharm pariwartan ke jugad me lage rahte hain . peace tv par pahle v kai baar ye ravishankar aur unke bich tathakathit sangram dikhaya ja chuka hai . isme ravishankar ke tarko ko hindu ki aawaj man kar harta hua dikhaya gaya hai . is sangram ki ek cd mujhe bhi di gayi thi . is tarah ke argument se koi hal nikalna hota to nikal chuka hota ! par kuchh log janbujh kar asli mudde se dhyan hatane ke liye bar bar dharm ki baat ki jati hai .
    yahi baat to bhajpa bhi karti hai ,, varun gandhi ne bhi to yahi kaiya par hangama kyun barpa hai . bat ye nahi kaun kya kah raha hai bat hai mudde kya hain ? purwagrah se grasit hokar lekhan ka kam koi sarthak nishkarsh nahi nikal sakta hai . main salim ji ka har lekh padhta hoon .
    aap log bhi wirodhi wicvharo ko padhna shuru kijiye . kabhi irshad manji aur anwar shekh ki kitabe bhi padh liya karo .

    ReplyDelete
  14. सिर्फ दो लोगों की बहस को टीवी पर देखने की गुजारिश के एवज़ में इतना विरोध, खाली देखने की गुजारिश के एवज़ में इतना विरोध, हे ईश्वर !

    ठेका कोई नहीं लिया है, ना ही मैंने, ना ही आपने..............मेरा कहना है कि लौटिये वेदों की तरफ, लौटिये सत्य की तरफ, अपनईये ऐसी विचारधारा को..................जहाँ सबको सम्मान हो, सबके लिए जगह हो.................पढिये वेदों और कुरान को और जगाईये ईमान को !

    ReplyDelete
  15. अगर आप लोगों को वाकई ऐसा लगता है तो ठीक है, मैं लिखना बंद कर देता हूँ, क्यूंकि मैंने जैसा कि मुझे लगता है अब तक किसी के बारे में कोई बुरी नहीं करी है, ना ही किसी को मैं बुरा कहता हूँ.........मैं सिर्फ उन बैटन पर जोर देना चाहता हूँ, जो सबमे समान हैं!

    फिर भी, अगर आप लोगों को या सनाजय जी को वाकई ऐसा लगता है कि मैं गलत कर रहा हूँ तो ठीक है, मैं लिखना बंद कर देता हूँ !

    आप सबका अब तक बहुत स्नेह मिला, जिसके लिए आप सबका शुक गुजार हूँ!

    सलीम खान
    संरक्षक
    स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़
    लखनऊ व पीलीभीत, उत्तर प्रदेश

    ReplyDelete
  16. क्यों बार बार इस नौटंकी को आगे लाकर रख देते हो !
    कुछ अच्छा काम कीजिये अरे भैया आप कहे भागे जा रहे हो डर गए क्या

    ReplyDelete
  17. ama yar hakikat to yahi hai ki dharm ki aad me sati lokpriyta batori ja rahi hai.
    maine aapse kuchh sawal puchhe the jabab dene ke bajay idfhar udhar ki bat mat kijiye .

    ReplyDelete
  18. Jayram Baaboo, please ask your question? Main kahin nahin jaunga aapke sawaal ka jawaab diye bagair...lekin shart yah hai ki sawaal ko sawaal ki tarah likhna..... jaise

    "bharat ke pahle pradhanmantri jawahar lal nehru the, unki mata ka naam kya tha ?"

    ReplyDelete
  19. सलीम जी मैंने आपको लिखने के लिए मना नहीं किया..आपको गलत समझ रहे है आपका स्वागत है आप लिख सकते है!
    बस मैं यही चाहता हूँ की जायज मुद्दों पर बहस हो!
    मैं चाहता हूँ की हिन्दुओं और मुस्लिमों में स्वयम को अच्छा साबित करने की बहस न हो एकता के साथ मुद्दों को हल करने के लिए बहस हो!
    आशा आप लोग मेरी बात सम्न्झेंगे

    ReplyDelete
  20. संजय जी, आपने ठीक कहा कि जायज़ मुद्दों पर बहस हो, एक दुसरे को श्रेष्ठ बताने के बजाये एकता के मुद्दे पर बहस हो!

    आपने बिलकुल सही कहा !!

    लेकिन क्या कभी आपको लगा कि मैंने एकमात्र कोई ऐसा पोस्ट डाला हो, जिसमें यह सन्देश जाता हो कि दुसरे लोगों की बुराई हो!?

    अगर ऐसा कोई एक भी पोस्ट बता दें तो मैं मान जाऊंगा कि मैं गलत हूँ !!

    जबकि मैं इसी ब्लॉग पर दुसरे ब्लोगर के एक नहीं कई ऐसे पोस्ट और कमेंट्स बता सकता हूँ, जिसमें उन्होंने खुल कर दूसरो की बुराई लिखी और बुरा भला कहा|
    मैं शिकायत नहीं कर रहा, मैं हकीकत बयान कर रहा हूँ!!!

    वैसे आपकी जीवन कथा पढ़ी अच्छी लगी, कुछ कुछ मेरे से मिलती जुलती है !!!

    ReplyDelete
  21. sallem bhai aapke kalki avtar wale post par ki gai tippani me kuchh sawal hai dekhiyega .....................

    ReplyDelete
  22. चलो अब अच्छा लग रहा है आप लोगों को एक होता देखकर !
    अब कोई अच्छे से विषय को पकडो
    और बाल की खाल निकालने में जुट जाइए

    ReplyDelete
  23. But I think we should start to talk about election now. Can anyone start for the same?

    ReplyDelete
  24. ठीक कह रहीं हैं सोनिया जी, हमें एक होना ही चाहिए और एक होते देख खुश भी होना चाहिए | जहाँ तक बाल की खाल की बात है, उससे हमें बचना चाहिए |

    "वसुधैव कुटुम्बकम"

    ReplyDelete
  25. anonymous ki bat ko gambhirta se lkene ki jarurat hai .....................

    ReplyDelete
  26. अच्छा विषय है।

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...