Friday, March 27, 2009

सोनिया की रैली क्यों रही फीकी?

कर्नाटक
यासिर मुश्ताक
स्पेशल कोरसपोंडेंट


कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू से करीब 250 किमी दूर स्थित दावणगेरे में कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने सोमवार को अपनी पार्टी के चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत की


हालांकि रैली मे लोगों की काफी भीड़ थी लेकिन अगर किसी चीज की कमी थी तो वो थी सोनिया गांधी के जोश में। सोनिया गांधी ने भाषण की शुरुआत करते हुए बीजेपी पर निशाना साधा और राज्य की जनता से फिर सत्ता में आने पर विकास व प्रगति का वादा किया।


गौर करने वाली बात यह कि सोनिया गांधी के भाषण मे वो जोश और जुनून नहीं दिखा, शायद उसकी वजह राज्य कांग्रेस में चल रहे टिकट बंटवारे को लेकर विवाद ही था। बताता चलूं कि राज्य कांग्रेस में काफी दिनों से यह विवाद चल रहा है हालांकी इस विवाद को सुलझाने के लिए गुलाम नबी आजाद भी आए थे लेकिन कुछ न हो सका, क्योंकि राज्य कांग्रेस में एक से बढ़कर एक नेता हैं। य़ही वजह है कि कांग्रेस ने अभी तक भी कर्नाटक में अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी नहीं की।


दावणगेरे की रैली में सोनिया गांधी ने तो चुनाव प्रचार किया लेकिन वो लोगों को यह न कह सकीं कि किसे वोट डालो, क्योंकि उसके पास अभी फाइनल लिस्ट नहीं थी और शायद इसीलिए सोनिया गांधी ने अपने भाषण कि शुरुआत कांग्रेस की केंद्र में कामयाबी को ले कर की।


रैली को संबोधित करते हुए सोनिया ने कहा कि एक तरफ आपके सामने देश को विकास के पथ पर अग्रसर करने वाली कांग्रेस है तो दूसरी तरफ बीजेपी है जिसकी राज्य सरकार के कार्यकाल में सभी को दंश झेलना पड़ा था। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश में सत्तारूढ़ बीजेपी सरकार सांप्रदायिक ताकतों को प्रोत्साहन देकर भारतीय प्रजातंत्र व्यवस्था से खिलवाड़ कर रही है। अब समय आ गया है कि देश की जनता को धर्मनिरपेक्षता में यकीन रखने वाली कांग्रेस अथवा लोगों में घृणा फैलाने वाली बीजेपी में से किसी एक को चुनना है।


सोनिया गांधी ने मौका पाते ही तीसरे मोर्चे की खिंचाई भी की। यहां पर यह बात काबिले जिक्र है कि तीसरे मोर्चे का गठन कर्नाटक में ही हुआ था। सोनिया ने कहा कि देश में तीसरे मोर्चे का कोई भविष्य नहीं है। मोर्चे में शामिल सभी राजनीतिक दलों के नेता प्रधानमंत्री की दावेदारी कर रहे हैं। इसकी वजह से इस मोर्चे में गठन से पहले ही झगड़े शुरू हो गए हैं। मोर्चे के घटक दलों तक को पता नहीं है कि यह कितना लंबा चलेगा।


सोनिया गांधी ने राज्य मे चल रहे मोरल पोलिसिंग को लेकर राज्य कि बीजेपी सरकार की काफी अलोचना की। सोनिया ने कहा कि राज्य मे हर जगह दंगे-झगड़े और हिंसक वारदातें हो रही है। प्रदेश में एक समुदाय की लड़की किसी अन्य समुदाय के युवक से बात करे तो उसकी पिटाई कर दी जाती है। बीजेपी सरकार सभी लोगों के बीच नफरत के बीज बोने को काम कर रही है।


सोनिया गांधी ने तो बीजेपी और तीसरे मोर्चे की खूब टांग खींची लेकिन पूरी रैली की दौरान वो खुद खोई-खोई सी रहीं। शायद वो इस असमंजस में थीं कि लोग तो उसके साथ हैं लेकिन उसके अपने ही पार्टी के नेता उसके साथ नहीं थे। अब राज्य की सभी राजनीतिक दलों को इंतजार है तो इस बात का कि कब कांग्रेस अपने उम्मीदवार की सूची जारी करें और फिर राज्य कांग्रेस की किश्ती कौन सा मोड़ लेगी पता नहीं।

आगे पढ़ें के आगे यहाँ

1 comment:

  1. अच्चा लिखा है आपने सर

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...