Friday, March 20, 2009

ग़ज़ल

आँखों में बस गई तेरी तस्वीर क्या करें
लेकिन जुदा है हमारी तकदीर क्या करें
बेहतर येही है आप हमें भूल जाईये
उलटी है अपने ख्वाब की ताबीर क्या करें
कागज़ कलम है हाथ में लिखना है हाले दिल
बैठे हुए है सोच में तहरीर क्या क्या करें
है यार हमको वादा मुलाकात का मगर
हालत की पों में जंजीर क्या करें
किस्मत से तू हमारी बहुत दूर हो गया
दिल से लगा के अब तेरी तस्वीर क्या करें
कहते है जिसे हौसला वो अप्प में नही
हातो में दे के आपके शमशीर क्या करें
आँखों में एक हुजूम है ख्वाबों का ए अलीम
मिलती नही उन्हें ताबीर क्या करें।

3 comments:

  1. प्रिय मित्र
    सादर अभिवादन
    आपके ब्लाग पर बहुत ही सुंदर सामग्री है। इसे प्रकाशनाथ्ज्र्ञ अवश्य ही भेंजे जिससे अन्य पाठकों को यह पढ़ने के लिए उपलब्ध हो सके।
    अखिलेश शुक्ल
    संपादक कथा चक्र
    please visit us--
    http://katha-chakra.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया .........दोस्त गजब लिखा है

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...