Skip to main content

पेट भरने के लिए चकले खुलवाना चाहती हैं महिलाएं!


आतंकवाद ने जम्मू कश्मीर में कई परिवारों को तबाह कर दिया है। हजारों लोग आज भी बेघर हो विस्थापन कैंप में जिंदगी गुजार रहे है। सरकार इन लोगों की खराब हालत के बारे में जानती तो है लेकिन वायदों के सिवाए कुछ नहीं करती। जम्मू के एक इलाके में विस्थापितों की हालत भी कुछ इसी तरह है। लेकिन सिटीज़न जर्नलिस्ट बलवान सिंह पिछले 10 साल से इन लोगों के अधिकारों के लिए लड़ रहे हैं। उनकी लड़ाई है आतंकवाद की वजह से विस्थापित हुए लोगों को सरकार से मुआवजा दिलवाने के लिए।
कश्मीर के बाकी जिलों की तरह रियासी भी आतंकवाद की चपेट में था। खून खराबे के बीच 1998-99 में लगभग 1000 परिवार अपनी जान बचाकर अपना घर बार छोड़ कर तलवाड़ा कैंप पहुंचे। इनके पारिवार के कई लोगों को आतंकियों ने मार दिया और कई को उनके ही घर से खदेड़ दिया। यहां पहुंच कर इनकी जान तो बच गई लेकिन जिंदगी को नए सिरे से दोबारा शुरू करना इनके लिए मुश्किल हो गया। इनके पास न सिर पर छत थी और न खाने की व्यवस्था। बच्चे भूखे मर रहे थे। हालत यहां तक बिगड़े कि अपना पेट पालने के लिए इन्होंने अपने बच्चों को बेचने की मंडी लगाई।
कुछ औरतों ने तो सरकार से चकला शुरू करने की मांग तक की ताकि बच्चों को खाना मिल सकें।
यहां के लोगों की खराब हालत देखकर 1999 बलबान सिंह ने इनके हक के लिए लड़ने का फैसला किया। शुरूआत हुई लोगों को जोड़ने से। इन्होंने विस्थापितों के लिए कपड़े और खाने का इतंजाम करवाना शुरू किया। कई लोग खुले दिल से मदद के लिए आगे आए। लेकिन विस्थापितों की जिंदगी को फिर से सामान्य बनाने के लिए ये हल नहीं था।
लोगों को फिर से बसाने के लिए सरकारी मदद की आस में बलवान सिंह ने दफ्तरों के कई चक्कर लगाए। आवेदन लिखे, अधिकारियों से मिले लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। अधिकारियों ने तलवाड़ा के विस्थापितों को विस्थापित ही नहीं माना। हकीकत आंखों के सामने थी लेकिन अधिकारी कागजी कार्यवाई और कानूनी पैचिदगियों के जाल में ही उलझे रहे।
अधिकारियों का कहना था कि तलवाड़ा के विस्थापित पजींकृत नहीं है इसलिए बाकी विस्थापितों की तरह उन्हें न तो सुविधाएं मिल सकती हैं न ही मुआवजा। बलवानन सिंह का सवाल है कि अगर विस्थापित पजीकृत नहीं किए गए है तो क्या उन्हें इंसानों की तरह बेहतर जिंदगी जीने का हक नहीं है? क्या उन्हें सरकार से सुविधाए नहीं मिलनी चाहिए?
बलवान सिंह बताते हैं कि यहां के लोगों ने अपनी रोजी रोटी के लिए आवाज उठाई और कई बार प्रदर्शन किए। लेकिन सरकार से उन्हें खाने के लिए मिलीं तो सिर्फ लाठियां। काफी दबाव के बाद सरकार ने मुआवजा देना तो शुरू किया लेकिन वो किसी भी तरह काफी नहीं। तलवाड़ा कैंप में विस्थापितों को 1200 रुपए प्रति परिवार और 10 किलो राशन दिया गया। जबकी कश्मीर के विस्थापितों के प्रति व्यक्ती के हिसाब से 4000 रुपए और 10 किलो राशन हर महीने दिया जाता है। इस मुआवजे में भी लापरवाही की गई और ज्यादातर वक्त ये बंद ही रहा। पिछले 6 महीने से इन लोगों को मुआवजा नहीं मिला बंद ही है।
लंबी कानूनी लड़ाई के बाद 2006 में सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर सरकार को तलवाड़ा के विस्थापितों को कश्मीरी विस्थापितों का दर्जा देने का आदेश दिया। लेकिन दुख की बात है अब तक इस फैसले पर अमल नहीं हो सका है।
आगे पढ़ें के आगे यहाँ

Comments

  1. कास्मिक भाई अच्छी बात हम तक पहुंचाई !!
    क्या चल रहा है..कहा हो और भोपाल से कब बापिस आ रहे हो !!
    जय हिन्दुस्तान जय यंगिस्तान

    ReplyDelete
  2. ये दर्द तो अंग्रेजों की दी गयी द्फ्तरशाही व्यवस्था में निहीत थी, जिसे हमलोग आज तक ढ़ोते आ रहें हैं। जबतक दफ्तरशाही व्यवस्था में अंग्रेजो की दी गयी कार्य पद्धति को नहीं बदला जायेगा, हर हिन्दुस्तानी इसी तरह घूँट-घूँट कर मरता रहेगा।

    ReplyDelete
  3. आपने यह जानकारी देकर आश्चर्यचकित कर दिया. इनके लिया हम कुछ नहीं कर सकते क्या? सारा काम सरकार ही करेगी तो लोकतंत्र में लोक की ताकत और भूमिका दोनों पर प्रश्न चिह्न लगेगा ही. ये महिलायें हस्त शिल्प का काम करें, उसे हम खरीदें तो वे इज्जत से जी सकेंगी बिना कोई अहसान लिए. इनकी सहकारी संस्था बनाई जाए तो ठीक होगा. प्रशासनिक अधिकारी खुद को कानून के ऊपर मानते हैं. उन्हें किसी की पीडा से क्या लेना-देना? यही हल नेताओं का है. ऐसे किसी एक बच्चे की पढ़ाई की फीस मैं दे सकूंगा बशर्ते प्रकरण सच्चा हो.

    ReplyDelete
  4. चिंतन करने वाला मुद्दा है
    आपका बहुत बहुत शुक्रिया आपने जो यह मुद्दा हमारे सामने रखा !

    ReplyDelete

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।