Tuesday, March 24, 2009

मुशर्रफ कुछ देर के लिये सन्नाटे में आ गया।

पिछले दिनों परवेज मुशर्रफ भारत आया था।
एक साहसी पत्रकार प्रेरणा कौल ने उससे पुछा ,"मै काश्मीरी पंडित हूं,मेरा घर श्रीनगर में है पर मैं वहाँ जा नहीं सकती,होटल में रूकना पड़ता है,वहाँ जाना नामुमकिन है।क्या आप बता सकेगें कि कब हम वहाँ जा सकते है?
मुशर्रफ कुछ देर के लिये सन्नाटे में आ गया।
इस सवाल का जवाब भारत को भी देना होगा ।
स्वच्छन्द पाकिस्तान की आवाज आप्को भी।

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...