Friday, March 13, 2009

हिंदुस्तान के दर्द के पोस्ट का बढ़ता कारवां !!!

मैं अकेला ही चला था, जानिबे मंज़िल
लोग आते गए और कारवां बढ़ता गया

सौजन्य:
सलीम खान
संरक्षक
स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़
लखनऊ व पीलीभीत, उत्तर प्रदेश

1 comment:

  1. सलीम जी शुक्रिया..आप एक जागरूक लेखक ही नहीं बल्कि एक अच्छे व्यक्ति भी है !
    पर मैं आपसे यही कहना चाहता हूँ की अपनी उर्जा को हमेशा सही जगह लगाओ !!
    सफलता हमेशा साथ रहेगी !

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...