Friday, March 20, 2009

बाल गीत


बंदर मामा

.-आचार्य संजीव 'सलिल'

बंदर मामा देख आइना काढ़ रहे थे बाल,
मामी बोली, छीन आइना- 'काटो यह जंजाल'।

मामी परी समझकर ख़ुद को, करने लगीं सिंगार.
मामा बोले- 'ख़ुद को छलना है बेग़म बेकार.

हुईं साठ की अब सोलह का व्यर्थ न देखो सपना'.
मामी झुंझलायीं-' बाहर हो, मुंह न दिखाओ अपना.

छीन-झपट में गिरा आइना, गया हाथ से छूट,
दोनों पछताते, कर मलते, गया आइना टूट.

गर न लडाई करते तो दोनों होते तैयार,
सैर-सपाटा कर लेते, दोनों जाकर बाज़ार.

मेल-जोल से हो जाते हैं 'सलिल' काम सब पूरे,
अगर न होगा मेल, रहेंगे सारे काम अधूरे.

**************************************

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...