Saturday, March 28, 2009

आयुषवेद से ठगी करता है,दलाल,फर्जी ब्लोग्गर और झोलाछाप डॉक्टर रुपेश श्रीवास्तव

''अगर आप बचपन की गलतियों और गलत संगत के कारण यौन समस्या से ग्रसित है तो घबराइये नहीं,हमें इस नंबर पर फ़ोन कीजिये और आपको भेजेंगे आयुर्वेदिक दवा महज उत्पादन मूल्य पर'' अब तक ऐसे फर्जी और अश्लील बिज्ञापन अख़बारों और पत्र-पत्रिकाओं में ही दिखाई देते थे लेकिन अब पैसे कमाने की लालसा और झूठी प्रसिद्धी पाने के इरादे को पूरा करने के लिए नकलची भड़ास के दलाल डॉ.रुपेश श्रीवास्तव ने इस तरह की बारदातों को अंजाम देने के लिए आयुषवेद नमक ब्लॉग तैयार कर लिया है ,जिसके माध्यम से बह निर्दोष जवान युवकों को फ़ासने का कार्य कर रहा है,कही उसके अगले शिकार आप तो नहीं? आप मैं आपको इस मंच के माध्यम से आगाह करती हूँ की ऐसे इंसानों से बचकर रहे जिनका काम जानवरों जैसा हो,यहाँ आपको संभलना ही होगा क्योंकि यदि आप जरा भी फिसले तो सेहत के नाम पर दलाली करने वाले ''लाला जी''तरह के भूंखे सूअर आपको जवानी और जेब की दौलत से कंगाल कर देंगे !जैसा हम सब जानते है की जिंदगी अनमोल है तो आप निश्चित रूप से ऐसे किसी चिरकुट किस्म के डॉक्टर से इलाज करना नहीं चाहेंगे,जिनका ना कोई नाम हो,ना चेहरा हो ,ना सभ्य बजूद हो और डिग्रियों की तो बात ही छोड़ दीजिये!



झोला छाप डॉ.रुपेश श्रीवास्तव कहता है की इस दुनिया मे इतने बेबकूफ है की एक ढूँढो हज़ार मिलते है,इसी तर्ज पर बह मासूम और खुद की तरह बेबकूफ किस्म के लोगों को अपना शिकार बनाता है और आप अपनी जवानी को कोयले की दलाली करने वाले हाथों को डॉक्टर समझ कर सौप देते है !इन महाशय के बारे मे जायदा न तो कोई जानता है ना ही पहचानता है और जो भी इसे जानता है ,तो इससे दूर रहने के लिए सतर्क कर देता है या हज़ार गली इन महाशय के नाम बकता है!यह महाशय खुद को अक्लमंद और सबको बेबकूफ समझते है !यही इसकी ओछी मानसिकता की निशानी है !



निश्चित रूप से बुद्धिजीवी लोग ना ही इस दलाल और फर्जी डॉक्टर की नकली डिग्रियां देखना चाहेंगे और न ही सस्ते चूर्ण से बने गयी जहरीली दवाइयाँ ! पर यह नासमझ लाला फैला रहा है मासूमो को फासने नई नई दुकाने!कुछ और ऐसी खोज हमारे सामने आई है की इसके बाद स्वस्थ्य के नाम पर फर्जी दूकान चलाने वाले इस डॉक्टर की पोल खुल जायेगी!



१०० से १५० फर्जी ब्लॉग चलाता है यह दलाल:-

लोगों को अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए मुफ्त ब्लॉग उपलब्ध कराये गए है लेकिन इसका अवैध लाभ उठा रहा है यह झोला छाप डॉक्टर!यह दलाल १०० से १५० ब्लॉग चलाता है जिसके माध्यम से अनेकों रूपों मे यह मासूम को फंसकर अवैध दौलत कमाता है !यही नहीं! यह नकलची बन्दर ''नकली भड़ास [bharhaas] एवं अन्य ब्लॉगों पर २०० फर्जी नामों से ब्लॉग्गिंग करता है,जिसके लिए खेतों मे काम करने वाले और मजदूर लोगों की फोटो का उपयोग करता है !इस झोलाछाप डॉक्टर की फितरत है की यह सफल लोगों का विरोध करके उनकी प्रसिद्धि मे से भी दलाली खाता है,नकली भड़ास उसी झूठन की देन है !नकली भड़ास पर लिखने वाले लेखकों के प्रति इसकी मानसिकता कुछ अलग है यह कहता है की ''दो इज्जतदार ब्लोग्गरों को आपस मे लड़ा दो फिर देखो अपना ब्लॉग कैसे चलता है,नकली भड़ास मे सामाजिक हित की एक भी पोस्ट नहीं है,सिवाए अपशब्दों के !



इसकी भाषाशैली है ''फूहड़''और अश्लील :-

इस दो कौडी के दलाल के शब्द आप सुंनेगे तो आपको यकीन हो जाएगा की यह कोई डॉक्टर नहीं बल्कि एक बुरे चरित्र वाला पालतू पिल्ला है !इसने जब नकली भड़ास तैयार नहीं किया था तब यह असली भड़ास ब्लॉग पर हुआ करता था इसने वहा पर अश्लील शब्दों का खूब उपयोग किया जिसके ब्लॉग्गिंग शर्मसार हुई,इसे अपनी हरकतें सुधारने के लिए ''यशवंत''जी ने मौका दिया लेकिन हर कुत्ते की तरह इसकी पूँछ भी सीधी नहीं हुई और इस बजह से इस झोला छाप डॉक्टर और दलाल को लतियाकर बाहर कर दिया गया !यहाँ आकर नकली भड़ास बनाया जबकि उसी तर्ज पर यह कुछ नया बना सकता था लेकिन जिसे झूठन खाने की आदत हो उसे पकवान पसंद नहीं आते!आयुषवेद बनाया और सेक्स के नाम पर दलाई करने लगा




असली भड़ास पर डाली गयी रुपेश श्रीवास्तव की यह पोस्ट,उसकी भाषाशैली को दर्शाती है

किन्नरों की सहायता से फांसता है ग्राहक:-

आपने नकली भड़ास पर कई किन्नरों की तस्वीर और नाम से बने अकाउंट देखे होंगे,यह नाम तो असली है लेकिन उन किन्नरों के नाम से डॉ.रुपेश फर्जी तरीके से ब्लॉग्गिंग करता है उनके नाम से इज्जतदार ब्लोग्गरों को गली बकने के लिए यह उनका उपयोग करता है !इसके साथ इस झोलाछाप डॉक्टर की दूकान को चलवाने के लिए यह किन्नर सेक्स बीमारियों से पीड़ित लोगों को फांसकर रुपेश दलाल के पास ले जाते है,जिसके लिए उन्हें उनका हिस्सा मिलता है !डॉ.के नाम पर कलंक बना रुपेश उन रोगियों को चवन्नी का चूर्ण हजारों की कीमत पर बेच देता है ! इस लाला की हरकतों का अंत यही तक नहीं है यह एड्स के इलाज का दावा भी करता है,शायद इसने खुद का इलाज किया होगा! कोई इस नासमझ को बताये की यह दुनिया इतनी भी बेबकूफ नहीं है जितनी की बह समझता है !


आयुषवेद और नकली भड़ास के नाम करता है गंदे शब्दों का उपयोग:-


आप आयुषवेद पर देखेंगे तो आपको पता चल जायेगा की वहा पर रोगी भी यही है और डॉ. भी यही है मतलब जितनी भी समस्या लिखी गयी है सब इस नासमझ की समझ का नतीजा है और इस आड़ मे गंदे शब्दों का उपयोग कर रहा है बह शब्द ऐसे है की हम इस मंच पर आपके सामने नहीं रख सकते !


इस मंच के माध्यम से हम आपको आगाह करना चाहते है की इस तरह के लोगों से दूर रहे जो आपके लिए घातक हो और अगर आप ब्लॉग्गिंग अच्छे बिचारों के लिए करते है तो नकली भड़ास आपके लिए नहीं है,जो लोगों को आपस मे लड़ाकर अपना काम निकालता है बह आपका हितेषी नहीं हो सकता है !और मैं आपको बात दूं की यह पोस्ट एक दिन की सोच नहीं है बल्कि महीनो से देखी गयी हरकतों और घटनाओं को देखकर लिखी गयी है !जिसका एक एक बाक्य सत्य है !अब हम आपको बताते है इस फर्जी और दलाल शख्स पर कुछ लोगों के विचार !



''मैं इस तरह के विरोध से नहीं डरता और ना ही गंदे विचारों वाले उस मंच पर जाता हूँ!लेकिन ''हिन्दुस्तान का दर्द'' के सभी लेखकों से यह कहना चाहूँगा की यदि आप हिन्दुस्तान का दर्द पर लिख रहे हो तो नकली भड़ास[bharhaas] से ना जुड़े,क्योंकि यहाँ के विचार वहा से अलग है !और हमें सिर्फ अच्छे विचारों की आवश्यकता है और यदि आप उस गंदगी में जाते हो तो आपके विचार देश एवं सामाजिक हित के काबिल नहीं बचते !''

-संजय सेन सागर संपादक- हिन्दुस्तान का दर्द

''हिन्दुस्तान का दर्द से जुडी तो इस शख्स के बारे मे पता चला इसका कोई मौलिक विचार नहीं है,यह ब्लॉग्गिंग की पाक संस्कृति को नापाक कर रहा है !''

कल्पना जोशी, फाइट फॉर राईट ब्लॉग

''इसके बारे में आपने जो कुछ भी बताया उससे मैं बिलकुल भी असहमत नहीं हूँ अगर आज आप यह पोस्ट तैयार नहीं करती तो कल मुझे करनी पड़ती !आपने मेरे विचार मांगे मैं आपका शुक्रगुजार हूँ!'' व्योम श्रीवास्तव ब्लॉगर

जो सच था हमने आपको बताया,अब फैसला आपके हाँथ है की आप क्या करना चाहते है,हमारे साथ मिलकर देश के लिए लड़ना या गलत का साथ देना! अगर आपमें से किसी को भी इससे आपत्ति है तो आप अपना विरोध दर्ज करा सकते है !इसी के साथ...

जय हिन्दुस्तान..जय यंगिस्तान

पढ़ें के आगे यहाँ

14 comments:

  1. जय हो...!!
    उसका उतना नाम हुआ है जो जितना बदनाम हुआ है
    जय हिन्दुस्तान

    ReplyDelete
  2. मैं एक बात कहना चाहता हूँ, मैंने देखा कि ब्लोगर्स ज्यादातर फालतू की सी पोस्ट करके फेमस होना चाहते हैं | चलो मान भी लें कि अगर ऐसा ही है और यह ब्लॉग की सफलता का पैमाना है तो ठीक है | हम भी यही मान लेते हैं| और यह सच भी है, मगर क्या ब्लॉग में फेमस हो जाने भर से लोग ऐसा कर रहे है ! यह तो बहुत ही घातक है, उन ब्लोगर्स के लिए और पाठकों के लिए और देश के लिए भी | मैं मानता हूँ कि ब्लॉग इस वक़्त सबसे अच्छा और सरल माध्यम है- अपनी बात लोगों तक पहुँचने का | लेकिन साथ भी मेरा मानना यह भी है कि इसका उद्देश्य सकारात्मक होना चाहिए |

    ब्लोगर्स से मेरा अनुरोध है वह ऐसा करने से बाज़ आएं क्यूंकि यहाँ फेमस होना क्षणिक है और आप अपने आप से ही धोखा दे रहे हैं|

    सलीम खान
    स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़
    लखनऊ व पीलीभीत, उत्तर प्रदेश

    ReplyDelete
  3. इन्हें कौन नहीं जनता इनकी भाषा तो पड़ी थी आज आपने काम भी बता दिया सुक्रिया कशिश जी !

    ReplyDelete
  4. इस तरहे के व्यक्ति के बारे में इतना नहीं लिखना चाहिए था.
    इन लोगो को एक तरफ हासिये पर रखना चहिये .
    ना ही इनके ब्लॉग पर जाये ना ही आपने ब्लॉग पर एसे व्यक्ति की चर्चा करनी चाहिए.
    मरजाने दो इन को गुमनामी के अँधेरे में.

    राजीव महेश्वरी

    ReplyDelete
  5. आपने सही कहा की इन लोगों पर इतना नहीं लिखना चाहिए
    यह इनके चरित्य को बताने के लिए आखरी पोस्ट थी !!

    ReplyDelete
  6. मैं इन्हें नहीं जानती लेकिन जिस तरह से आपने इनका वर्णन किया उससे तो यही लगता है की यह अच्छे व्यक्ति नहीं है
    ऐसे लोगों से साबधान ही रहना चहिये

    ReplyDelete
  7. बिलकुल आपत्ति जनक शब्दों का पर्योग इन्होने किया जो और ब्लोग्गेर्स को अनुसरण करने वाले है उनतक बहुत गलत सूचना पहुँचेगी और ब्लोगेर्स की इमेज धूमिल होगी ऐसे व्यक्ति को ब्लोगेर्स में लेखन कार्य करना उचित नहीं होगा........

    ReplyDelete
  8. Tu sale lato ka devta hai..bato se nahi manega..

    ReplyDelete
  9. डाकटर रुपेश को तो मै महान समझता थावो तो पाजी निकाला। अच्छा किया बता दिया। आनलाइन में इस तरह के दल्ले बहुत मिलते हैं। सबको होशियार रहने की जरूरत है। जागते रहो.......

    ReplyDelete
  10. तेरी छवि मात्र एक हज्जाम से ज्यादा और कुछ नहीं है जो मात्र किसी तरह बकैती करके ग्राहकों को उलझाए रहता है अब बेनामी कमेंट प्रकाशित करने का नाटक कर रहा है लेकिन तू डा.रूपेश के आगे कीड़ा है बच्चे....

    ReplyDelete
  11. ओये पागल कुत्ते,ये तब की बात है जब तू कुत्ता तो था लेकिन पागल सूअर नहीं बना था उससे पहेले तो तुने यशवंत की टट्टी खूब खायी है और सारे छक्कों को खिलाई है अब तुझे वो पसंद नहीं है क्योंकि वो रूपया कम रहा है और तुम टट्टी खा रहे हो !
    और गांडू के इस पोस्ट में गाली तो नजर आई नहीं सुधर जा वरना भोंकते भोंकते मर जायेगासंजय जी माफ़ करें एक दिन आपको कुछ गलत कह दिया था उस दिन इसकी असलियत पता नहीं थी लेकिन अब चल गयी है

    ReplyDelete
  12. संजय जी आप समझदार हो क्यों ऐसे लोगों के मुह लगते हो
    आप अपना काम करते रहिये
    इन्हें छोड़ दीजिये

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...