Sunday, March 29, 2009

ग़ज़ल

नक्श जो दिल पे है वो उनसे मिटाया न गया
हाले दिल हम से मगर उनको सुनाया न गया।
दोष परचार के हम मुल्क ऐडम को निकले
बोझ बरसों के गुनाहों का उठाया न गया
भूल मजनू को पनाह देने की बस कर बैठे
हम से शीशे के मकानों को बचाया न गया
सहर अंगेजी सूरत का असर तो देखो
दीद में बाद निगाहों को हटाया न गया
हम सुनते ही रहे उनका फ़साना शब् भर
हाले दिल अपना मगर उनको सुनाया न गया
नाज़ की उनके बदन की हो बया कैसे आलीम
भीगी पलकों का ही बोझ उनसे उठाया न गया

1 comment:

  1. बहुत ही बेहतरीन गजल बार बार बधाई भाई

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...